जिंदगी कही और

सपने है आँखों में पर नींद कही और है,
दिल है जिस्म में पर धड़कन कहीं और है,

कैसे करे अपना हाल ऐ दिल बयाँ,
जी रहे है पर जिंदगी कही और है…!!!

(623)

Share This Shayari With Your Friends