ये शाम जब भी आएगी

किसी का प्यार पा के,

तुम नया जहां बसाओगे,

ये शाम जब भी आएगी,

तुम बहोत याद आओगे…

(429)

Share This Shayari With Your Friends