ये दुआ है हमारी रब से

ये दुआ है हमारी रब से,

मोत जब भी आए,

तुम्हारे इंतज़ार में हमारी,

आँखे खुली रह जाए…

(936)

Share This Shayari With Your Friends