उस अजनबी चेहरे में

सपनो की दुनिया में हम खोते गये,

होश में थे फिर भी मदहोश होते गये,

जाने क्या जादू था उस अजनबी चेहरे में,

खुद को बहोत रोका फिर भी उनके होते गये…

(532)

Share This Shayari With Your Friends