तुम्हारी यादों में बस जाउंगी

तुम्हारी यादों में बस जाउंगी

मेरी याद आयेगी तुम्हे जब दूर चली जाउंगी,
दूर भी इतना की कभी लौट के ना आउंगी,

अब तक तुम्हारे दिल में रहती थी,
फिर तुम्हारी यादों में बस जाउंगी,

याद आएगी बातें और मुलाकातें मगर,
कभी तुम से मिल न पाउंगी,

तडपोगे  तुम भी मेरे बारे में सोच कर,
मगर तव में नज़र न आउंगी,

तुम्हे जान से ज्यादा चाहती हु,
पर शायद साबित न कर पाउंगी,

लोग कहते है प्यार अमर होता है,
फिर तो में खुद को ही अमर कर जाउंगी,

मेरे प्यार को सहारा देना तब जब,
आखरी दम पर तुम्हे बुलाऊंगी,

मेरी याद आये तो रात को बहार आकर देखना,
में एक चमकता हुआ तारा बन आउंगी,

आंसू मत बहाना मुझे याद करके,
वरना में नाराज़ हो जाउंगी…!!!

(567)

Share This Shayari With Your Friends