तुम मेरी जिन्दगी मेरी काइनात हो

तुम मेरी जिन्दगी मेरी काइनात हो

एक चाहत है मेरी तुमसे प्यारी बात हो,

जरा-जरा खामोश हो और लम्बी रात हो,

और फिर उस रात यही बताते रहे तुमको,

की तुम मेरी जिन्दगी मेरी काइनात हो…

(410)

Share This Shayari With Your Friends