तु मिल के भी ना मिला

तु मिल के भी ना मिला,

तुझे पा के भी न पाया,

मैं तो अधुरी रह गई,

तेरा साया जब नजर ना मुझे आया…!!!

(687)

Share This Shayari With Your Friends