तारों को गिनने वाले हम न थे

तारों को गिनने वाले हम न थे

तारों को गिनने वाले हम न थे,

अकेले गुनगुनाने वाले हम न थे,

ये तो आपकी दोस्तीं ने आदत लगा दी,

वरना किसी को इतना याद करने वाले हम न थे…..

(204)

Share This Shayari With Your Friends

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *