तारीख मोहब्बत की फिर से

तारीख मोहब्बत की फिर से

आज बस आप कहो और कहती ही जाओ,

हम बस सुने ऐसा बे-जुबान कर दो,

हो पुरानी दास्तान हीर राँझा की,

तारीख मोहब्बत की फिर से जवान कर दो…!!!

(416)

Share This Shayari With Your Friends