तरस गए आपके दीदार को

तरस गए आपके दीदार को

तरस गए आपके दीदार को,

फिर भी दिल आप ही को याद करता है,

हमसे खुशनसीब तो आपके घर का आइना है,

जो हर रोज़ आपके हुस्न का दीदार करता है….!!!

(1023)

Share This Shayari With Your Friends