साया भी साथ नहीं होता

जीवन की घड़ियों में,

कोन किसका होता है,

साया भी साथ नहीं होता,

जब अँधेरा होता है…

(1278)

Share This Shayari With Your Friends