रुलाते गए

रुलाते गए

हम सिमटते गए उनमें और वो हमें भुलाते गए,

हम मरते गए उनकी बेरुखी से, और वो हमें आजमाते गए,

सोचा की मेरी बेपनाह मोहब्बत देखकर सीख लेंगी वफाएँ करना,

पर हम रोते गए और वो हमें खुशी-खुशी रुलाते गए…!

(503)

Share This Shayari With Your Friends