पुराने छुट जाते है

हवाएँ जब चलती है,

तो पत्ते टूट जाते है,

नए यार मिलते है तो,

पुराने छुट जाते है…

(1951)

Share This Shayari With Your Friends