ढूंढते रहे परछाइयों में हम

ढूंढते रहे परछाइयों में हम

उतरे जो ज़िन्दगी तेरी गहराइयों में हम…
महफ़िल में रह कर भी रहे तन्हाईयों में हम…

दीवानगी नहीं तो और क्या कहें….
इन्सान ढूंढते रहे परछाइयों में हम…

(586)

Share This Shayari With Your Friends