पानी में गिरा आंसू पहचान लेती हैं

चाहत वो नहीं जो जान देती है,

चाहत वो नहीं जो मुस्कान देती है,

ऐ दोस्त चाहत तो वो है,

जो पानी में गिरा आंसू पहचान लेती हैं…!

(514)

Share This Shayari With Your Friends