पहली नज़र के इश्क को

पहली नज़र के इश्क को अब मैंने जाना है,
दिल उसे याद करे जो बिलकुल अंजाना है,

हमारे दरमियां अभी फ़ासले हैं बहुत,लेकिन
ये दूरियां अब तो मुझे हर हाल में मिटाना है,

दिन रात सिर्फ उसका ही ख्याल रहता है,
कभी लगे ये हकीकत कभी लगे फ़साना है,

गर वो न समझ पाए मेरी नज़रों की जुबां,
तो मिलकर उससे प्यार अपना जताना है,

उसे भी हो जाएगा एहसास मेरी मोहब्बत का,
फिर सब भूला कर हमें एक दूजे में खो जाना है,

क्योंकि ऐसा ही होता है पहली नज़र का इश्क
जिसे अब जा कर मैंने समझा और जाना है…!!!

(1654)

Share This Shayari With Your Friends