और अच्छा लिखा है तक़दीर में

फर्क होता है खुदा और फकीर में,

फर्क होता है किस्मत और लकीर में,

अगर कुछ चाहो और न मिले,

तो समझ लेना की कुछ और अच्छा लिखा है तक़दीर में…!!!

(487)

Share This Shayari With Your Friends