निशान होंगे

निशान होंगे

वक़्त और ख़ुशी तेरे गुलाम होंगे,

ये पल ये पहलू तेरे ही नाम होंगे,

देखना कभी झूक कर निचे भी,

ए हमसफ़र तेरे हर कदम के निचे,

मेरे हाथो के निशान होंगे…

(489)

Share This Shayari With Your Friends