अब ना होना जुदा सुन लो

अब ना होना जुदा सुन लो

पास आओ और एक इल्तजा सुन लो, प्यार तुम से है बेपनाह सुन लो,
सिर्फ तुम को खुदा से माँगा है, जब भी मांगी कोई दुआ सुन लो,
इब्तला इश्क़ की हुई तुम से, तुम ही हो चाहत की इन्तहा सुन लो,
बिन तेरे जी नही सकते हम, की अब लौट आओ मेरी सदा सुन लो,
देख लु जिंदगी अधूरी है, अपनी की अब ना होना जुदा सुन लो,
सिर्फ तुम ही हो जिंदगी मेरी मगर, ये होती है वफ़ा सुन लो,
इस जहां में कोई नही मेरा ताहिर, तुम रहो मेरे सदा सुन लो…!!!

(689)

Share This Shayari With Your Friends