न पूछो हालत मेरी रूसवाई के बाद

न पूछो हालत मेरी रूसवाई के बाद

न पूछो हालत मेरी रूसवाई के बाद,

मंजिल खो गयी है मेरी, जुदाई के बाद,

नजर को घेरती है हरपल घटा यादों की,

गुमनाम हो गया हूँ गम-ए-तन्हाई के बाद…!!!

(672)

Share This Shayari With Your Friends