न मिले कभी दर्द उनको

न मिले कभी दर्द उनको

तक़दीर लिखने वाले एक एहसान करदे,
मेरे दोस्त की तक़दीर मैं एक और मुस्कान लिख दे,
न मिले कभी दर्द उनको,
तू चाहे तो उसकी किस्मत मैं मेरी जान लिख दे..

(761)

Share This Shayari With Your Friends