न इश्क करते हैं न मुहब्बत

इश्क मुहब्बत तो सब करते हैं,
गम – ऐ – जुदाई से सब डरते हैं,

हम तो न इश्क करते हैं न मुहब्बत,
हम तो बस आपकी एक मुस्कुराहट पाने के लिए तरसते हैं…!!!

(370)

Share This Shayari With Your Friends