मुस्कुराते रहो

मुस्कुराते रहो

हँसी के नगमे गाते रहो,

वक़्त निकाल कर मुस्कुराते रहो,

जिन्दगी कब देती है मौका बार-बार,

मौका ढून्ड़ो और खिल खिलाते  रहो…

(344)

Share This Shayari With Your Friends