मुस्कुरा न सके

बहुत चाहा उसको जिसे हम पा न सके,

ख्यालों में किसी और को ला न सके,

उसको देख के आंसू तो पोंछ लिए,

लेकिन किसी और को देख के मुस्कुरा न सके…!

(759)

Share This Shayari With Your Friends