मैसेज से ही संक्राति विश किया करो

मैसेज से ही संक्राति विश किया करो

खुले आसमा में जमी से बात न करो,

ज़ी लो ज़िंदगी ख़ुशी का आस न करो,

हर त्यौहार में कम से कम हमे न भूला  करो,

फ़ोन से न सही मैसेज से ही संक्राति विश किया करो.. !!

(190)

Share This Shayari With Your Friends