मोहब्बत तो आज भी

बस तुम्हे पाने की,

तमन्ना नही रही..

वरना मोहब्बत तो आज भी तुमसे,

बेशुमार करते है…

(752)

Share This Shayari With Your Friends