मोहब्बत ना कीजियेगा

दोस्ती तो कीजियेगा,

मगर दिल ना दीजिएगा,

उम्मीद-ए-वफा रखकर,

मोहब्बत ना कीजियेगा…

(1060)

Share This Shayari With Your Friends