मोहब्बत के फूल खिलते है

नफरत के पेड़ पर,

मोहब्बत के फूल खिलते है,

बिछड़कर सारे दोस्त,

दोबारा भी मिलते है..!

(626)

Share This Shayari With Your Friends