मोहब्बत बदनाम हो गई

मोहब्बत बदनाम हो गई

ऐसी बेवफाई की उसने ,
मोहब्बत भी बदनाम हो गई ,

अपनी मोहब्बत की इतनी कीमत वसूल की उसने ,
के हमारी अर्थी भी नीलाम हो गई ………

(1733)

Share This Shayari With Your Friends