मेरे पास वक़्त न हो

मेरे पास वक़्त न हो

कभी वक़्त मिले तो,

तेरी आँखों में आँखे डालकर कुछ कहना है तुझसे,
तू भी तो खुलकर इज़हार-ऐ-मोहब्बत कर मुझसे,

कह दे कभी आज शाम है बस तेरे लिए,
इस वक़्त का कोई भरोसा नही मेरे सनम,

कही न हो तू हो मेरे साथ और,
मेरे पास वक़्त न हो…!!!

(440)

Share This Shayari With Your Friends