माखन चुराकर जिसने खाया;

माखन चुराकर जिसने खाया;

माखन चुराकर जिसने खाया;

बंसी बजाकर जिसने नचाया;

ख़ुशी मनाओ उसके जन्म की;

जिसने दुनिया को प्रेम सिखाया।

(93)

Share This Shayari With Your Friends