कृष्ण के क़दमों पे

कृष्ण के क़दमों पे कदम बढ़ाते चलो;

अब मुरली नहीं तो सीटी बजाते चलो;

राधा तो घर वाले दिलायेंगे ही मगर;

तब तक गोपियाँ पटाते चलो।

(777)

Share This Shayari With Your Friends