कोई हमारे काबिल नहीं आया

झुका कर सर को बैठे है,

मगर कातिल नहीं आया,

बहुत आए मगर,

कोई हमारे काबिल नहीं आया…

(842)

Share This Shayari With Your Friends