खुश न हो ए खुदा

खुश न हो ए खुदा

वो लाख तुझे पूजती होगी,

मगर तू खुश न हो ए खुदा,

वो पगली मन्दिर भी जाती है,

तो बस मेरी गली से गुजरने के लिए…

(249)

Share This Shayari With Your Friends