खोए-खोए रहते हो

खोए-खोए रहते हो

पूछते है वो हमे की खोए-खोए रहते हो,

किसके खयालो में ?

सोचता हूँ कह दूँ की ढूडोज़रा सनम,

मिलेंगे ज़वाब मेरे तुम्हे तुम्हारे अपने सवालो में…

(297)

Share This Shayari With Your Friends