दूर रहने की कसम हैं कैसी

दूर रहने की कसम हैं कैसी

आँखों के सागर में ये जलन हैं कैसी

आज दिल को तड़पने की लगन हैं कैसी

बर्फ की तरह पिघल जायेगी जिंदगी

ये तेरी दूर रहने की कसम हैं कैसी….!

(2056)

Share This Shayari With Your Friends