काश उसे चाहने का अरमान ना होता,

काश उसे चाहने का अरमान ना होता,

मैं होश में रहते हुए अनजान ना होता,

ना प्यार होता किसी पत्थर दिल से हमको,

या फिर कोई पत्थर दिल इंसान ना होता…!!!

(338)

Share This Shayari With Your Friends