जो पल पल सताता है

जो पल पल सताता है

झूठा अपनापन तो हर कोई जताता है,
वो अपना ही क्या जो पल पल सताता है,
यकीं न करना हर किसी पर क्यूंकि,
करीब कितना है कोई यह तो वक्त बताता है..

(1190)

Share This Shayari With Your Friends