झुकी झुकी पलकें हैं

झुकी झुकी पलकें हैं,

चेहरे पर कितना नुर हैं,

ज़ालिम की सादगी में भी,

देखो यारो कितना गुरुर है…

(1203)

Share This Shayari With Your Friends