जब तुम ही ना हो तो

कुदरत के इन हसीं,

नजारों का क्या करूँ,

जब तुम ही ना हो तो,

चाँद-तारो का क्या करूँ…

(270)

Share This Shayari With Your Friends