हम तेरे बिना

हम तेरे बिना

होठों की हसी को,

मत समझ हकीकत-जिन्दगी,

दिल में उतर के देख,

कितने उदास है हम तेरे बिना…

(478)

Share This Shayari With Your Friends