हम किसी और के

हम तुम्हे पाकर खोना नही चाहते,

जुदाई में आपकी रोना नही चाहते,

तुम हमारे ही रहना ऐ दोस्त,

हम किसी और के होना नही चाहते…!!!

(245)

Share This Shayari With Your Friends