हमें पहचान भी न सके

गुज़ारिश हमारी वो मान न सके

मज़बूरी हमारी वो जान न सके,

कहते है मरने के बाद भी याद रखेंगे,

जीते जी हमें पहचान भी न सके…!!!

(1160)

Share This Shayari With Your Friends