हमें इनकार करना

उसको चाहा पर इज़हार करना नहीं आया,

कट गई उमर हमें प्यार करना नहीं आया,

उसने कुछ मंगा भी तो मांगी जुदाई,

और हमें इनकार करना भी नहीं आया…

(574)

Share This Shayari With Your Friends