गिर-गिर के संभलता होगा

गिर-गिर के संभलता होगा

दिल तो उनके सिने में मचलता होगा,

हुस्न भी सो-सो रंग बदलता होगा,

उठी होंगी जब निगाहें उनकी,

खुद खुदा भी गिर-गिर के संभलता होगा…

(314)

Share This Shayari With Your Friends