ऐसी नींद सुला दे

कितना और दर्द देगी बस इतना बता दे,

ऐसा कर मालिक अब मेरी हस्ती मिटा दे,

यूँ घुट घुट के जीना मौत से बेहतर है,

कभी न खुले आँखे तो ऐसी नींद सुला दे…!!!

 

(594)

Share This Shayari With Your Friends