एक राधा और एक मीरा;

एक राधा और एक मीरा;

जन्माष्टमी का त्योहार;

एक राधा और एक मीरा;

दोनों ने श्याम को चाहा;

अब श्याम पर है, सारा भार;

किसकी प्रीत करे स्वीकार।

(1100)

Share This Shayari With Your Friends