दोस्ती के सिवा कोई

दोस्ती के सिवा कोई

करनी है खुदा से गुजारिश,

तेरी दोस्ती के सिवा कोई बंदगी न मिले,

हर जनम में मिले दोस्त तेरे जैसा,

या फिर कभी जिंदगी न मिले…।

(341)

Share This Shayari With Your Friends