दो कदम जो साथ चले

किसी भी मुस्कुराहट को,

प्यार ना समझना,

दो कदम जो साथ चले,

उसे यार ना समझना…

(1368)

Share This Shayari With Your Friends