दिल में रहते हो

मस्जिद की नमाज या मंदिर की दुआ हो तुम,

हो खुदा का तोहफा या खुद खुदा हो तुम,

ऐ मेरे दोस्त खुद ही करो फेसला,

दिल में रहते हो तुम या दिल की जगह हो तुम…!!!

(682)

Share This Shayari With Your Friends